राष्ट्रीय आय की अवधारणाएं – Concepts of National Income

By | April 26, 2021
राष्ट्रीय आय की अवधारणाएं - Concepts of National Income

राष्ट्रीय आय की सही जानकारी राष्ट्रीय आय से सम्बिन्ध्त कुछ महत्वपूर्ण अवधारणाओं का अध्ययन करके मिलती है| तो आइये जानते है राष्ट्रीय आय की अवधारणाएंके बारे में-

सकल घरेलू उत्पाद (Gross domestic product -G.D.P.)


किसी देश की घरेलू सीमा के अंदर एक वर्ष में उत्पादित सभी वस्तुओं और सेवाओं के मौद्रिक मूल्य को सकल घरेलू उत्पादन कहते है

शुद्ध घरेलू उत्पाद (Net Domestic Product N.D.P.)


सकल घरेलू उत्पाद में से जब उत्पादन में प्रयुक्त मशीनों और पूंजी की घिसावट को घटा दिया जाये तो शुद्ध घरेलू उत्पाद प्राप्त होता है

शुध्द घरेलू उत्पाद (N.D.P.) = सकल घरेलू उत्पाद (G.D.P.)-मूल्य ह्रास

सकल राष्ट्रीय उत्पाद (Gross National Product – N.D.P.)


किसी देश के द्वारा एक वर्ष में उत्पादित समस्त वस्तुओं और सेवाओं के मौद्रिक मूल्य को सकल राष्ट्रीय उत्पाद कहते है इसमें विदेशों से प्राप्त आय सम्मिलित होती है

सकल राष्ट्रीय उत्पाद (G.N.P.) = सकल घरेलू उत्पाद (G.D.P.) + विदेशों  से अर्जित विशुध्द आय

शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद (Net National Product – N.N.P.)


सकल राष्ट्रीय उत्पाद से  जब उत्पादन में प्रयुक्त मशीनों एवं पूँजी की घिसावट को घटा दिया जाता है तो शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद प्राप्त होता है

शुध्द राष्ट्रीय उत्पाद  (N.N.P.) = सकल राष्ट्रीय उत्पाद (G.N.P.) – मूल्य ह्रास

राष्ट्रीय आय (National Income – N.I.)


साधन लागत पर शुध्द राष्ट्रीय उत्पाद को राष्ट्रीय आय कहते है प्रचलित कीमतों पर शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद में से अप्रत्यक्ष कर को घटा दिया जाये और उत्पादन को जोड दिया जाये तो राष्ट्रीय आय प्राप्त होती है

राष्ट्रीय आय (N.I.) = प्रचिलित कीमतों पर शुध्द राष्ट्रीय आय – अप्रत्यक्ष कर + उपादान

वास्तविक राष्ट्रीय आय (Real National Income – R.N.I.)


किसी भी देश की मुद्रा की क्रय शक्ति में निरंतर परिवर्तन होता रहता है इसलिए वास्तविक राष्ट्र्रीय आय की जानकारी के लिए किसी आधार वर्ष के सापेक्ष शुद्ध राष्ट्रीय उत्पाद की गणना की जाती है

प्रति व्यक्ति आय (Per Capita Income – P.C.I.)


जब कुल राष्ट्रीय आय में से कुल जनसंख्या का भाग देते है तो प्रति व्यक्ति आय प्राप्त होती है, प्रति व्यक्ति आय दो तरह से प्राप्त की जा सकती है

(1) प्रचलित कीमतों पर प्रति व्यक्ति आय-

प्रचलित कीमतों पर राष्ट्रीय आय /वर्तमान जनसंख्या

(2) स्थिर कीमतों पर प्रति व्यक्ति आय

स्थिर कीमतों पर राष्ट्रीय आय  / वर्तमान जनसंख्या

वैयक्तिक आय (Personal income)


एक वर्ष में राष्ट्र के निवासियों को प्राप्त होने वाली वास्तविक आय वैयक्तिक आय कहलाती है

वैयक्तिक आय  = राष्ट्रीय आय + अंतरण भुगतान – निगम कर – अवतरित लाभ -सामाजिक सुरक्षा अनुदान

व्यय योग्य आय (Disposable income)


प्रत्येक व्यक्ति एक वर्श में प्राप्त आय को पूर्णत: व्यय नहीं कर पाता बल्कि सरकार द्वारा प्रत्यक्ष कर के रुप में कुछ राशि ले ली जाती है शेष बची राशि को व्यय योग्य राशि कहते है

व्यय योग्य आय = वैयक्तिक आय – प्रत्यक्ष कर

हम आशा करते है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा ,साथ ही अच्छी तरह समझ आया होगा ,अगर आपको इस लेख से संबधित कोई प्रश्न है तो हमें कमैंट्स करें|

You may also read: Indian Economy MCQ

Leave a Reply

Your email address will not be published.